परिचय:

सूर्य नमस्कार, जिसे अंग्रेजी में "Sun Salutation" कहा जाता है, एक प्राचीन योगासन है जो सूर्य की पूजा के रूप में जाना जाता है। यह एक पूर्ण शारीरिक क्रियावली है जिसमें स्थिर और संचालन के आसन होते हैं। यह योग साधकों को शारीरिक, मानसिक, और आध्यात्मिक लाभ प्रदान करता है। इस ब्लॉग में, हम सूर्य नमस्कार के विस्तृत और सही तरीके के साथ स्टेप्स को जानेंगे।


1. प्रारंभिक ध्यान (अवधि: 1 मिनट):

  • एक शांत और साकारात्मक माहौल में बैठें।

  • आँखें बंद करें और ध्यान लगाएं।

  • सांस लेते हुए और छोड़ते हुए ध्यान करें।
  • मन को शांत करें और सूर्य की प्रकृति का ध्यान करें।

2. प्रणामासन (अवधि: 1 मिनट):

  • स्थितिगत अवस्था में खड़े हो जाएं।

  • पांव जोड़कर हाथ जोड़ें।
  • नाभि के सामने हाथ को जोड़ें।
  • आंखें बंद करें और शांति के साथ प्रणाम करें।

3. हाथ उठाने के साथ हासन (अवधि: 1 मिनट):

  • प्राणवायु और एकाग्रता के साथ हाथ ऊपर उठाएं।

  • पीछे की ओर झुकें और जमीन को छूने के लिए हाथ बाएं ऊपर की ओर बढ़ाएं।
  • सीने को खोलने के लिए अधिकांश का वजन पैरों पर डालें।

4. पदहस्तासन (अवधि: 1 मिनट):

  • उत्तानासन से यह आसन आरंभ करें।

  • हाथों को सीधे रखें और जमीन को छूने के लिए झुकें।
  • नीचे की ओर झुकें, अगले आसन के लिए पल्लु को छुएं।

5. अष्टांग नमस्कार (अवधि: 1 मिनट):

  • नीचे झुकें और ध्यान रखें।

  • पीठ को सीधा और आंतरिक मांसपेशियों को मजबूत बनाएं।
  • प्राणवायु को बाहर निकालें और पल्लु को छुएं।

6. भुजंगासन (अवधि: 1 मिनट):

  • ऊपर की ओर उठें और भुजंग आसन के रूप में सीधे हो जाएं।

  • ऊपर उठने के बाद, ध्यान रखें कि कंधों को सीधा रखें और बाएं हाथ को कंधों के बगल में रखें।

7. अदो मुख श्वानासन (अवधि: 1 मिनट):

  • कुत्ते के आसन में उल्टे हो जाएं।

  • पैरों को फैलाएं और पेट को जमीन पर लगाएं।
  • ध्यान रखें कि हड्डियों को सीधा रखें और पैरों को जमीन पर सही स्थिति में रखें।

8. आश्वासन (अवधि: 1 मिनट):

  • पीछे की ओर झुकें और अगले आसन के लिए हाथ बाएं ऊपर की ओर बढ़ाएं।

  • सीने को खोलने के लिए अधिकांश का वजन पैरों पर डालें।

9. पदहस्तासन (अवधि: 1 मिनट):

  • पीछे की ओर झुकें और ध्यान रखें।

  • हाथों को सीधे रखें और जमीन को छूने के लिए झुकें।
  • नीचे की ओर झुकें, अगले आसन के लिए पल्लु को छुएं।

10. हाथ उठाने के साथ हासन (अवधि: 1 मिनट):

  • प्राणवायु और एकाग्रता के साथ हाथ ऊपर उठाएं।

  • पीछे की ओर झुकें और जमीन को छूने के लिए हाथ बाएं ऊपर की ओर बढ़ाएं।
  • सीने को खोलने के लिए अधिकांश का वजन पैरों पर डालें।

11. प्रणामासन (अवधि: 1 मिनट):

  • स्थितिगत अवस्था में खड़े हो जाएं।

  • पांव जोड़कर हाथ जोड़ें।
  • नाभि के सामने हाथ को जोड़ें।
  • आंखें बंद करें और शांति के साथ प्रणाम करें।

समापन:

सूर्य नमस्कार योग की एक प्रमुख प्रक्रिया है जो स्वास्थ्य, शांति, और सकारात्मकता को बढ़ावा देती है। उपरोक्त स्टेप्स को ध्यान से अनुसरण करके, आप सूर्य नमस्कार का अभ्यास कर सकते हैं और इसके लाभों को अनुभव कर सकते हैं। यह न केवल आपके शारीरिक स्वास्थ्य को सुधारेगा, बल्कि आपके मानसिक और आध्यात्मिक विकास में भी सहायक होगा।

0 Comments
Write a comment